हर चन्द चमकता रहे कुल हिंद मे "आलोक"

हृदय की संवेदनशीलता है कविता : आलोक सीतापुरी

18/01/2011 18:08

लखीमपुर, 12 नवम्बर : कविता हृदय की वह संवेदनशीलता है जिसमें भोगा गया यथार्थ सामने आता है। कवि अपने अतीत को जब शब्दों में बांधता है तो कविता जन्मती है। दूसरे शब्दों में भावों की अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम कविता है। यह कहना है सीतापुर के मशहूर अवधी कवि आलोक सीतापुरी का। अपने गीतों का आलोक प्रदेश के विभिन्न कवि सम्मेलनों से फैलाकर, आकाशवाणी से भी काव्य पाठ कर चुके आलोक सीतापुरी का मानना है कि कवि द्वारा...

 

Read Full Article

© 2010 All rights reserved.

Make a website for freeWebnode